0

पैरों के निशान – Hindi Stories

पैरों के निशान कल रात मुझे एक स्वप्न आया मैंने देखा कि मेरा सुख का समय चल रहा था के और मैंसमुद्र के किनारे की रेत में चला जा रहा था मैं जहाँजहाँ भी जा रहा था ,वहाँवहाँ मेरेपैरों के निशान रेत में बने हुए थेलेकिन एक चमत्कारिक बात थी और वह यह कि रेत मेंएक जोड़ी के स्थान पर दो जोड़ी पैर दिख रहे थे। अर्थात,जहाँजहाँ भी मैं गया , ईश्वर मेरेसाथ था

स्वप्न के दूसरेभागअब मेरा दुःख का समय था , मुसीबत का समय था मैं तनाव तनावतनाव में था,विपत्ति से जूझ रहा था ऐसे समय में,ऐसे वक्त में भी मैं समुद्र के किनारे कीरेत मैं चला जा रहा था। किंतु ,यह देख कर मुझे अत्यन्त दुःख हुआ कि ऐसे समय में रेत पर केवल एक जोड़ी पैरोंके निशान ही दिख रहे थे। अतः मुझसे रहा गया और मैंने ईश्वर से शिकायत की कि  हे ईश्वर ऐसा क्यों? विपत्तिके समय में आपने मेरा साथ छोड़ क्यों दिया?जब मेरे खुशहाली के दिन थे ,जब मैं प्रसन्नथा तब तब तो आप मेरे साथ थे और विपत्ति में आपने मुझे क्यों  छोड़ दिया?
pairo ke nishan
इस पर ईश्वर ने उत्तर दिया ,” अरे  पगले ,मैंने विपत्ति भी तेरा साथ नहीं छोड़ा जब तूनेसुख के समय में मेरा साथ  नहीं छोड़ा तो  मैं दुःख के समय में तेरा साथ कैसे छोड़सकता हूँ?” ” फिर दुःख  के समय में मुझे केवल एक जोड़ी पैर   ही क्यों दिखे?” मैंने  पूछा “बेटे ! दुःख के समय में,विपत्ति  के समय में मैंने तुझे  अपनी गोद  में उठाया  हुआ था” ईश्वर  ने उत्तर दिया। अतः, सुख के समय में भोग विलास  में इतने लिप्त मत हो जाओ कि ईश्वर  को  भूल  ही  जाओ . जो  भी ईश्वर  को  सुख  के  समय  में  याद  रखते  हैं  ईश्वर  सदैव  उनका  मार्गदर्शन  करते   रहते  हैं ।
You can check it out more hindi story only on here.

Get Free Email Updates!

Signup now and receive an email once I publish new content.

I will never give away, trade or sell your email address. You can unsubscribe at any time.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *