0

राजू चाय वाले से WEB DEVELOPER बनने की Motivational कहानी

Motivational Kahani राजू चाय वाले से WEB DEVELOPER बनने की

कुछ दिन पहले मैंने राजू यादव की success story पढ़ा वही आज मै आप लोगो से share कर हूँ । परिश्रम ही सफलता की कुंजी है, इस कथन को राजू ने चाय की दुकान पर नौकरी से वेब डेवलपर बन सिद्ध कर दिया।

राजू 5th तक की पढाई कर के 2001 में 13 वर्ष की उम्र में छोटा मोटा काम करने झारखण्ड से मुंबई के लिए रवाना हुआ। वजह थी परिवार पर कर्ज और parents की खराब तबियत। मुंबई पहुँचने के बाद राजू को चाय की दुकान में नौकरी भी मिल गयी । वहाँ वह साउथ मुंबई के चीरा बाजार इलाके के offices में कटिंग चाय पहुंचाया करते थे| छह महीने यह काम करने के बाद उन्हें उनमें से एक ऑफिस में असिस्टेंट की जॉब मिल गई, जहां वह चाय पहुंचाया करते थे। कंपनी का नाम था sagai.com । यही बाद में shadi.com बनी। वहाँ के लोगो ने उन्हें पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया । उन्होंने ने भी वैसा ही किया और 2006 में उन्होंने 3 महीने की leave ले कर 10th, 61% marks के साथ पास किये उसके बाद उन्होंने 12th भी पास कर लिए। उसके पश्चात उन्होंने Mumbai university में admission ले लिया ।

raju-yadav_143116952

More Hindi Stories – Hindi Kahani 

वहाँ पर काम कर रहे web developers को देख कर उनके अंदर भीweb developing सीखने की इक्षा जगी । ऑफिस ने भी उनकी मदद की और वो काम के बाद 2-3hours रुक कर web development सिखने गए । कुछ दिन बाद उसी ऑफिस में वैकेंसी आई तो उन्होंने भी apply कर दिए। selection process के बाद उन्हें इस post पर promote किया गया।

31 मार्च को अनुपम (CEO of shadi.com)ने ट्वीट किया कि ‘हमने जिस चायवाले बच्चे को 10 साल पहले peon के तौर पर hire किया था, अब उसे वेब डेवलपर के रूप में प्रमोट कर रहे हैं।’

Recommended for more hindi quotes – Click Here

राजू कहते हैं , “भले ही वे एक web developer बन गए हैं पर उन्हें पता है कि उन्हें एक लम्बा सफर अभी तय करना है. लोग कह सकते हैं कि एक छोटे से गाँव से निकल कर एक चायवाला और फिर एक web developer बनना बड़ी बात है पर सीखने की मेरी इच्छा कभी कम नहीं हो सकती.”

माता पिता बच्चों की पढाई पर अधिक ध्यान दें। मैंने ऐसे parents देखे है जो पढाई को ज़रूरी नहीं समझते। गरीबी की वजह से पढाई से ज्यादा काम कर के पैसा कमाने को ज्यादा महत्व देते हैं पर बहुत बार वे बच्चों को पढ़ाने से अधिक ज़मीन जायदाद खरीदने को महत्त्व देते हैं।

Check Also – गुरु दक्षिणा – Hindi Motivational Story

बहुत से युवा भी हैं जो ज़िन्दगी भर सरकारी नौकरी का इंतज़ार करते रहते हैं , और इसी चक्कर में अपना समय बर्वाद कर देते हैं. पूरी ज़िन्दगी उस सरकारी नौकरी का इंतज़ार मत करिये , जो शायद कभी हाथ ही ना आये…

जब भी आपको कोई मौका मिले तो उसे गाबाईए नहीं , otherwise वो हमेशा के लिए तुमसे दूर हो जायेगी.”

जिंदगी हमेशा आपको एक मौका जरूर देती है, इसलिए उस opportunity को waste ना करे।

Source : Bhaskar

Get Free Email Updates!

Signup now and receive an email once I publish new content.

I will never give away, trade or sell your email address. You can unsubscribe at any time.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *