Top 5 Best Places For Honeymoon In India In 2020 [In Hindi]

 दिन प्रतिदिन के सौर ,स्ट्रेस और डेली रूटीन से एक ब्रेक लेने के लिए भारत में कुछ ऐसे प्राकृतिक और मन बेहलादेने वाली जगह हैं जहाँ जाते ही  हमे लगता है हमारी रूह को सुकून मिल रहा है और हमे महसूस होता है की हम नेचर के बेहद पास हैं। आपका काम आसान करने के लिए हमने भारत के टॉप ५ ऐसे जगाओं के बारे में बिस्तर में लिखा है जो आपका टूर प्लान करने में आपकी बेहद सहायता karega।



Best Places For Honeymoon In India:


1. कूर्ग:

दिन की शुरुआत होते ही  कूर्ग की सुरमयी सुंदरता के साथ डूबते हुए कूर्ग अपनी धुंदली हवा से आपका स्वागत करेगी । सैर की शुरुआत  Omkareswarar टेम्पल जिसमे  महादेव की पूजा की जाती है वहां से सुरु करते हुए, Dubare Elephant camp, में pohonch  सकती हैं जहाँ  हमे  आलीशान जिव जंतुओं के बारे में जानने को milega। उसके साथ हम वहां पे हाथियों को स्नान और खाना खिला सकते है जो सबके  लिए एक रोमांचक क्रिया होगी । इतिहास के कुछ पन्नो को जानने के लिए "मदिकेरी फोर्ट", "म्यूजियम",राजा शेएर" जैसे अनेक जगह हैं। सेष भाग में कूर्ग आपको shopping के लिए ढेर सारे ओप्तिओंस देगी और शॉपिंग में तड़का लगते हुए वहां पे होममेड विन्स के अनेक फ़्लवोरस मजूद है जो आपको एक नया स्वाद देगी।  


2. अंडमान एंड निकोबार आइलैंड:

यह जगा हनीमून के लिए एक रोमांचक स्थान है। प्राकृतिक और इतिहास से भरे  हुए इस जगह में ५७२ टापू होने के साथ साथ "सेलुलर जेल"  जो की भारत बसियों में  "कला पानी" नाम से चिन्हित है, मजूद है जो की मुख्य  रूप से पर्यटक आकर्षण केंद्र है। अंडमान एंड निकोबार दुनिया के कुछ आकर्षक और बेहद खूबसूरत बीच से भाग्यवान   है ।वहां पे नीला  रंग और सफ़ेद बालू के बीच जैसे की Radha Nagar बीच ,Elephant बीच , Kalapathar beach and Symphony Palms Beach बहुत नमी बीचों में से है। राधा नगर बीच जो की हेवलॉक टापू में है वो दुनिया के कुछ प्रभाबशाली और मान रोचक बीच में से एक है। यहाँ पे इंडिया का सबसे अछा स्कूबा-डाइविंग अभिप्राय hai और अनेक वाटर स्पोर्ट्स कार्यकलाप का केंद्र भी मजूद ह। 


3. लधक: 

लधक की खूबसूरती को पास से देखने के लिए और महसूस करने के लिए  वहां पे जाने का सबसे उपयुक्त समय गर्मियों के मौसम में मिलेगा जब वहां का तापमान २०-३० डिग्री सेल्सियस के बिच में होगा। गर्मियों के मौसम में जाना सबसे फलदाई होता है क्यूंकि उस समय  श्रीनगर-लेह के मार्ग में गाड़ी के आने जाने में कोई रोक टोक नहीं होती।   लधक में हमारी रूह को कुदरत का प्यार जताने के लिए बेहद सारी जगह मजूद है जैसे की 

*"लेह पैलेस" जो की लधक के नरेश ने निर्माणः कीआ था जो अभी बी रॉयल फॅमिली को लोग इस्तेमाल कर रहे है।

* लधक में "वाल ऑफ़ फेम म्यूजियम " मजूद है जो की भारतीय सेनानियों ने कारगिल वॉर के याद  में बनाया था।

* एक जापानीज बुद्धिस्ट आर्गेनाईजेशन ने एक सफ़ेद गुम्बज निर्माणः केआ था बुद्धिज़्म के २५०० को सामान देने के लि। 

*"श्रेय मोनास्ट्री" लधक के प्रथम नरपति ने १५ किलोमीटर ऊपर साउथ ऑफ़ लेह में    निर्मित केआ था। 

*"हम्मीस गोम्पा"  साउथ ऑफ़ लेह के ४५ किलोमीटरस ऊपर स्थापित है जहाँ हम अत्यंत खूबसूरत  चित्र और  दीवारों पे 

भित्ति-चित्र देख के उसकी बारीकी और मेहनत के ऊपर फ़िदा हो सकते हैं

*लेह  से  50 kms दूर, Leh-Kargil-Srinagar national highway, अपनी चुम्बकीय पर्वत के लिए मुखय रूप से  पर्यटक आकर्षण केंद्र है   यह पर्वत अपनी सक्तिसाली  चुम्बकीय गुन के लिए माना जाता है जो कार्स को ऊपर की और खींचता है और  वायुयान को मजबूर करता है अपनी उच्चत्व बढाने के लिए ताकि कोई चुम्बकीय  छेड़छाड़ न हो सके पर असलियत में ये एक चाक्षुष छल है जो पर्वत के अभिन्यास के वजह से होता है। मन  को ताज़ा करने के लिए कुछ खूबसूरत लेक जैसे की Tsomoriri लेक,pangong लेक,Nubra वैली,Khardung ला, इत्यादि भी मजूद है। 


4. कोणार्क :

ओडिशा में लोकप्रिय स्थान में से एक स्थान कोणार्क है जो अपने सूर्य देव को पूजा करने वाले मंदिर के लिए बहुत प्रसिद्ध है। ७ घोड़े जो सूर्य मंदिर को पूरब दिशा के और खिंच रहे हैं वो हफते के ७ दिन दर्शाते हैं ,डोज़ेन जोड़े चक्के १२ महीने दर्शाते हैं और ८ बानी औरतों के ८ मुखय भागो को दर्शाता है और इसी कारन से ये माना जाता है की यह चक्की से हम समय का अनुमान कर सकते है और ऐसे अनेक अनेक निर्माण के तरीके हैं मंदिर में जो की अध्ययन से कहीं न कहीं जुड़े हुए है। प्रति बर्ष यहाँ एक रिट्रीट फेस्टिवल होता है जहाँ पे लोग   खेमा में रहेके खूब मौज मस्ती करते है। 


5. उत्तराखंड: 

यह वर्ग हिमालय के गोदी में लिपटे होने के वजह से हमे  पर्वत का एक अनोखा अनुभव देती है।  इसकी भूगोल "वैली ऑफ़ फ्लावर्स" से लेकर "नंदा देवी चोटि " का  खुरदरा   ढलान भरा रस्ता बेहद चमत्कारी  रूप से खूबसूरत है। उसके साथ  साथ यहाँ के प्राकृतिक अतिशय दीप्ति हमे बेहद सारे और दूसरे मनोरंजक  कामों में  हिस्सा लेने के लिए उकसाती है। यहाँ की खूबसूरती से ज्यादा अछि यहाँ के लोगों की मेहमान  नवाज़ी प्यारी होती है।


यह सब जगह जाने के लिए सबसे उपयुक्त समय गर्मिओं का महीना ही होता है ताकि हमे कोहरे के परदे के वजह से कुछ भी नज़ारा धुंदला न दिखे। कुदरत के जितने करीब जाएंगे हमे ऐसा लगेगा हमारी बॉडी और  मंद दोनों डिटोक्स हो रहे हैं और हमे वापिस हमारी डेली लाइफ के गाड़ी को चलाने में और जोश मिलेगा।

Post a Comment

0 Comments